स्टेट हेड शमीम की रिपोर्ट

लखनऊ।सपा सरकार के दौरान लखनऊ में गोमती नदी के किनारे बने
रिवर फ्रंट से जुड़े घोटाले में पहली
गिरफ्तारी हुई हैं गोमती रिवर फ्रंट
घोटाले की जांच कर रही सीबी आई ने सिंचाईं विभाग के पूर्व चीफ इंजीनियर रूप सिंह यादव को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है बता दें कि करीब 1500 करोड़ रुपये के इस घोटाले की जांच फिलहाल सीबीआई कर रही थी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी)
ने भी मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी सीबीआई लखनऊ की एंटी करप्शन टीम इस मामले की
जांच कर रही थी राज्य सरकार ने तीन साल पहले घोटाले की जांच सी बी आई से कराने की संस्तुति की थी गौरतलब है कि अप्रैल 2017 में प्रदेश सरकार ने रिवर फ्रंट घोटाले की न्यायिक
जांच के आदेश दिए थे जांच के बाद गोमती नगर थाने में कई अधिकारियों के विरुद्ध कमेटी ने एफ आई आर दर्ज कराई थी उसी एफआई आर को आधार बनाकर सीबी आई ने रिपोर्ट दर्ज की थी अब रूप सिंह यादव की गिरफ्तारी के बाद इस घोटाले के अन्य आरोपितों की भी गिरफ्तारी की हो सकती है बता दें कि सपा की सरकार के कार्यकाल में लखनऊ में गोमती नदी के तट पर बने रिवर फ्रंट को समाजवादी
पार्टी का ड्रीम प्रोजेक्ट बताया गया था इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद से ही इसमें बड़े घोटाले के आरोप लगते रहे थे यूपी में योगी सरकार आने के बाद इसकी प्रारंभिक जांच के बाद केस सी बी आई के हवाले कर दी गई थी अब
सी बी आई इस घोटाले के बड़े जिम्मेदारों पर अपना शिकंजा कस रही हैैं !