बाराबंकी

वैश्विक महामारी के संकट काल में जान की परवाह किए बगैर ही सेवा में समर्पित रहे कर्मयोगी संग्रहअमीनो व अनुसेवको को अप्रैल माह की पगार से रहना होगा वंचित

स्टेट हेड शमीम की रिपोर्ट

बाराबंकी। वैश्विक महामारी के संकट काल में जान की परवाह किए बगैर ही सेवा में समर्पित रहे कर्मयोगी संग्रहअमीनो व अनुसेवको को अप्रैल माह की पगार से वंचित रहना होगा हां काम करना चाहें तो करें परंतु उन्हे सेवा के बदलें एक पका भी मिलने वाला नहीं। राजस्व अमीन संघ ने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री व अयोध्या मंडल कमिश्नर से न्याय की गुहार लगाई है। बताते चलें हैं कि नवाबगंज तहसील प्रशासन द्वारा कोविड -19 में संयमित व अनुशासित सेवाएं दे रहे समायिक संग्रह अमीन व अनुसेवकों की बेसहारा लोगों व स्पेशल ट्रेन द्वारा बाहरी प्रांतों से आए प्रवासियों को लंच पैकेट व पानी के पाउच वितरण कार्य सेवा में लगाए गए । लेकिन दूसरों का पेट भरने वाले संग्रह अमीनो व अनुसेवक अप्रैल माह के वेतन से वंचित है। राजस्व अमीन संघ जिला अध्यक्ष सर्वजीत यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस की दृष्टिगत राजस्व वसूली पर अंकुश लगाया था। महामारी के दौरान तहसीलदार के निर्देशानुसार संग्रहअमीनो व अनुसेवको को बेसहारा व बाहरी प्रांतों से आए प्रवासियों की देखरेख लंच पैकेट एवं पानी पाउच वितरण में ड्यूटी लगाई गई थी। लेकिन लगभग चार दर्जन संग्रह अमीनो व अनुसेवको को अप्रैल माह का वेतन न मिलने से परिवार का गुजारा नहीं चल रहा है। जिला अमेठी व आगरा की भांति अप्रैल माह का वेतन मुहैय्या कराना चाहिए ।जबकि अमेठी अयोध्या मंडल में ही लगता है। इस मौके पर संग्रह अमीन मोहन विक्रम नेतराम शैलेंद्र वर्मा चंद्रकेश तिवारी दीनानाथअस्वथी अनुसेवक मुकेश कुमार बृजेश पप्पू मल्लू रावत रामखेलावन अयोध्या मोरिया आशीष खरे विनोद प्रसाद जय कुमार मौजूद थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Sorry !!