लखनऊ

प्रतिष्ठा साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था के तत्वावधान में सम्मान समारोह व कवि सम्मेलन हुआ आयोजित

लखनऊ।प्रतिष्ठा साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था के तत्वावधान में स्थानीय चन्द्रा गेस्ट हाउस, स्नेह नगर, लखनऊ सभागार में आयोजित सम्मान समारोह, कवि सम्मेलन व आचार्य रामदेव लाल विभोर की कृति छन्द विधान ( लक्षण ग्रंथ ), राम कुंवर सिंह की कृति सम्पूर्णता छंद ( छंद संग्रह ), डाॅ सत्यदेव प्रसाद द्विवेदी की तीन कृतियां बैरिउ राम बड़ाई करहीं ( यात्रा साहित्य ), सरयू शतक ( खण्ड काव्य ) एवं उठो चलो ( गीत संग्रह ) का भव्य विमोचन हुआ ।
समारोह की अध्यक्षता डाॅ शिवभजन कमलेश ने की व प्रो हरिशंकर मिश्र मुख्य अतिथि एवं साहित्य भूषण डाॅ रंगनाथ मिश्र सत्य विशिष्ट अतिथि रहे ।
समारोह में डाॅ रंगनाथ मिश्र सत्य सहित डाॅ सत्यदेव प्रसाद द्विवेदी, डाॅ शिवभजन कमलेश व संजय समर्थ को प्रतिष्ठा श्री, डाॅ शिवभजन कमलेश, डाॅ सत्यदेव प्रसाद द्विवेदी पथिक को प्रतिष्ठा मार्तण्ड, सर्वजीत मिश्र को प्रतिष्ठा गौरव, शुकदेव पाण्डेय प्रबल को प्रतिष्ठा रत्न, नरेन्द्र भूषण, अवधेश गुप्त नमन, डाॅ कमलेश नारायण श्रीवास्तव सरस, कमल किशोर भावुक, सरस कपूर, डाॅ मृदुल शर्मा, डाॅ शिवभजन कमलेश, आचार्य रामदेव लाल विभोर, राम कुंवर सिंह व डाॅ सत्यदेव प्रसाद द्विवेदी को प्रतिष्ठा श्री
सम्मान से अंगवस्त्र व प्रतीक चिह्न प्रदान कर सम्मानित किया गया ।
कवि सम्मेलन में आचार्य प्रेम शंकर शास्त्री बेताब, पण्डित बेअदब लखनवी, के पी सत्यम, अमर श्रीवास्तव अमर, तमाचा लखनवी, प्रतिभा गुप्ता, शिव मंगल सिंह मंगल, आवारा नवीन,भ्रमर भैंसवारी, लक्ष्मी रस्तोगी, मृत्युंजय गुप्ता, कृपा शंकर श्रीवास्तव विश्वास, शीला वर्मा मीरा, संजय कुमार मिश्र रजोल, नवीन बैसवारी, डाॅ मृदुल शर्मा, कुमार तरल, विनोद कुमार गुप्त भावुक, मधुकर अष्ठाना, मधु दीक्षित, मुरली मनोहर कपूर, सर्वेश पाण्डेय, भोलानाथ अधीर व श्याम नारायण श्रीवास्तव आदि अनेकों कवियों एवं कवयित्रियों ने अपने काव्यपाठ से कवि सम्मेलन को चार चाँद लगाया ।
अध्यक्षीय उद्बोधन के साथ समारोह का समापन हुआ ।

Related Articles

Back to top button