ब्यूरो रिपोर्ट : दिलीप मिश्रा।

फतेहपुर बाराबंकी। तहसीलदार की सुस्त कार्यप्रणाली को लेकर अधिवक्ताओं ने कार्यालय के समक्ष सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया। अधिवक्ताओं ने पांच सूत्रीय मांगों को लेकर जिलाधिकाराी को संबांधित ज्ञापन नायब तहसीलदार पुष्कर मिश्रा को सौपा।
तहसील फतेहपुर के तहसीलदार द्वारा धारा 38 की फाइलों तथा धारा 34 के अंतर्गत बैनामा व वसीयत की फाइलों में लगातार निर्विवादित होने के बाद भी आदेश नहीं किए जा रहे है। आदेश होने के पश्चात आदेशों का अंकन खतौनी में कराना एक समस्या बन चुकी है। धरनाकारी अधिवक्ताओं ने भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप कर्मचारियों पर लगाए। इसीक्रम में अधिवक्ताओं ने कहा कि प-1 की रिपोर्ट भी समय से दाखिल की जाती है साथ ही कुर्रा बटवारा और सीमांकन की फाइले भी समय से निस्तारित नहीं की जा रही है। अधिवक्ता बार के पूर्व अध्यक्ष गीरिश चन्द वर्मा ने कहा कि धारा 116 में आदेश के बाद सीघ्र सीमांकर रिपोर्ट प्राप्त कर मेडबंदी आदेश किया जाये। न्यायालय द्वारा पारित आदेशों का तत्काल अंकन कराया जाये। उन्होंने कहा कि यदि 17 फरवरी तक कोई ठोस कदम नही उठाए जाते है तो 18 फरवरी से अनवरत धरना प्रदर्शन किया जायेगा। इस दौरान बार के पूर्व अध्यक्ष गिरीश चन्द्र वर्मा ने नायब तहसीलदार पुष्कर मिश्र को ज्ञापन सौपा है। इस मौके पर अध्यक्ष हरिनाम सिंह वर्मा, महामंत्री मनीश कुमार श्रीवास्तव, हरीश मौर्या, राजीव नयन तिवारी, शीरत्न मिहिर, शिव प्रताप सिंह, रमेश चन्द्र रावत, ओम प्रकाश यादव, संजय सिंह, राजेश सिंह, अनीत कुमार रावत, सतेन्द्र कुमार श्रीवास्तव, रामअवतार गौतम, विष्णू कुमार मौर्या, रामलाल वर्मा समेत समस्त अधिवक्ता मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here