बाराबंकी

जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी कार्यालय में मनाया गया संख्यिकी दिवस

स्टेट हेड शमीम की रिपोर्ट
बाराबंकी।जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी कार्यालय बाराबंकी में प्रोफेसर पीसी माहलनोविस की स्मृति में सांख्यिकी दिवस का आयोजन किया गया, जिसमें प्रोफेसर माहलनोविस द्वारा सांख्यिकी के क्षेत्र में किए गए योगदान पर वार्ता की गई। यह जानकारी जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी हरिचरन सिंह ने दी। उन्होंने बताया कि सामाजिक, आर्थिक नियोजन और नीति निर्माण में आंकड़ों की काफी अहमियत होती है। इनके बगैर कोई भी बड़ा सर्वेक्षण, रिसर्च और मूल्यांकन पूरा नहीं किया जा सकता। इसलिए सांख्यिकी के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए प्रत्येक वर्ष 29 जून को राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य रोजमर्रा की जिंदगी में और योजना एवं विकास की प्रक्रिया में सांख्यिकी के महत्त्व के प्रति लोगों को जागरूक करना है।
श्री सिंह ने कहा कि 29 जून को प्रख्यात सांख्यिकीविद दिवंगत प्रशांत चंद्र महालनोबिस (Prasanta Chandra Mahalanobis) का जन्मदिन है, जिन्होंने सांख्यिकी में महत्वपूर्ण योगदान दिया था। इसी को ध्यान में रखते हुए 2007 में उनकी जन्मतिथि के अवसर पर हर वर्ष 29 जून का दिन राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया गया था। उन्होंने बताया कि महालनोबिस का जन्म 29 जून, 1893 को कोलकाता में हुआ था. उन्होंने कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज से भौतिकी में ऑनर्स किया और उच्च शिक्षा के लिए लंदन चले गए। मुख्यतौर पर महालनोबिस को उनके द्वारा विकसित सैंपल सर्वे के लिए याद किया जाता है। इस विधि के अंतर्गत किसी बड़े जनसमूह से लिए गए नमूने सर्वेक्षण में शामिल किए जाते हैं और फिर उससे प्राप्त निष्कर्षों के आधार पर विस्तृत योजनाओं को आकार दिया जाता है। महालनोबिस ने इस विधि का विकास एक निश्चित भू-भाग पर होने वाली जूट की फसल के आंकड़ों से करते हुए बताया था कि किस प्रकार उत्पादन को बढ़ाया जा सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button