अब तकअभी तकबाराबंकी

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिलास्तरीय निर्यात प्रोत्साहन समिति की बैठक की गई आहूत ,

स्टेट हेड शमीम शमीम की रिपोर्ट

बाराबंकी । कार्यालय, जिला उद्योग प्रोत्साहन एवं उद्यमिता विकास केन्द्र, देवारोड, बाराबंकी द्वारा जिलाधिकारी बाराबंकी की अध्यक्षता में दिनांक 02.11.2020 को डी0आर0डी0ए0 स्थित गांधी सभागार, बाराबंकी में जिलास्तरीय निर्यात प्रोत्साहन समिति की बैठक आहूत की गई, जिसमें जनपद बाराबंकी में निर्यात की वर्तमान दशा एवं दिशा को सकारात्मक रूप देने हेतु विचार-विमर्श किया गया एवं जनपद बाराबंकी को निर्यात के प्रमुख केन्द्र के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से रणनीति एवं कार्ययोजना का निर्धारण किया गया।मा0 प्रधानमंत्री के विजन कोसाकार किये जाने हेतु भारत सरकार/राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक जनपद को पोटैन्शियल एक्सपोर्ट हब के रूप में विकसित किये जाने के उद्देश्य से जनपद में जिला निर्यात प्रोत्साहन समिति का गठन किये जाने के निर्देश दिये गये। उक्त समिति की प्रथम बैठक में समस्त सम्मानित सदस्यों का स्वागत करते हुये उपायुक्त उद्योग द्वारा समिति के समक्ष विगत 03 वर्षों में प्रदेश के निर्यात में जनपद बाराबंकी के उत्पादों द्वारा किये जा रहे योगदान का विश्लेषण किया गया, जिसमें क्रमशः वर्ष 2017-18 में 1.51 प्रतिशत, 2018-19 में 1.62 प्रतिशत एवं 2019-20 में 3.00 प्रतिशत की भागीदारी रही है।जनपद बाराबंकी को एक्सपोर्ट हब के रूप में विकसित करने की रणनीति के निर्धारण में उप महानिदेशक, विदेशव्यापार, भारत सरकार द्वारा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जानी है, एवं उन्हीं के द्वारा डिस्ट्रिक्ट एक्सपोर्ट प्लान तैयार किया जा रहा है। जिलाधिकारी महोदय द्वारा बैठक में दिये गये निर्देशों के क्रम में जनपद में महत्वपूर्ण निर्यात उत्पादों का चिन्हांकन कराते हुये बेस लाइन एक्सपोर्ट की बेंच मार्किंग की जानी है। जनपद बाराबंकी में प्रत्यक्ष निर्यात हेतु चिन्हित सेक्टर के अन्तर्गत टेक्सटाइल्स, मेंथाक्रिस्टल, फ्रोजेनमीट, आर्गेनिकफूड एवं हर्बल उत्पाद तथा एग्री एवं फूडप्रोडक्ट्स आते हैं, जिनके लिये पृथक रूप से उत्पादवार उप समितियां बनाये जाने के निर्देश प्राप्त हुये।
जिलाधिकारी महोदय द्वारा बैठक में सबसे महत्वपूर्ण बिन्दु की ओर ध्यान आकृष्ट करते हुये निर्देशित किया गया कि निर्यात संभावना वाले चिन्हित उत्पादों के निर्यात में आ रही समस्याओं की पहचान करते हुये जनपद स्तर पर ही उनके निराकरण एवं निर्यात संवर्धन हेतु एकल सुविधा केन्द्र की स्थापना की जाय।
आगामी बैठक में ड्रिस्टिक्स एक्सपोर्ट प्लान तैयार करते हुये, उत्पादवार उप समितियों के गठन एवं उनकी कार्ययोजना प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये।उक्त बैठक में जिलाधिकारी, मुख्य विकासअधिकारी, उपायुक्तउद्योगश्रीउमेशचन्द्र, सहायकआयुक्तउद्योग, उप महानिदेश, विदेशव्यापारकानपुर, सहायकनिदेशक एम0एस0एम0ई0 विकाससंस्थानकानपुर, सहायकनिदेशकहथकरघा, उपायुक्तवस्तु एवंसेवाकर, अग्रणी जिलाप्रबन्धकसहितजिले के प्रमुख निर्यातक-आनन्दजैन, अभिषेकगुप्ता, यश अग्रवाल, मुनीरअहमदआदि द्वाराप्रतिभागकियागया।

Related Articles

Back to top button